शिशु के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए प्रमुख पैरामीटर उसका वजन बढ़ना है। गर्भावस्था के दौरान हर अल्ट्रासाउंड में  भ्रूण के वजन का विकास को देखा जाता है। पहले 8 हफ्तों के दौरान, भ्रूण का वजन बहुत कम होता है। पहले कुछ हफ्तों में भ्रूण के दिल की धड़कन और दर पर बी नज़र रखी जाती है। 8 सप्ताह से 20 सप्ताह तक, अल्ट्रासाउंड में  शिशुओं को सिर से नीचे तक मापा जाता है क्योंकि उनके पैर अभी भी मुड़े रहते है। उसके बाद, शिशुओं को सिर से पैर तक मापा जाता है। स्कैन के दौरान, रेडियोलॉजिस्ट भ्रूण के कुछ माप को  लेते है ।  जैसे - बाइपराइटल व्यास (BPD) जो शिशु के सिर को अगल-बगल से मापना है, फेमूर लंबाई (FL) -मिश्रित जांघ की हड्डी की लंबाई, सिर परिधि (HC), ऑकिपिटोफ्रॉस्टल व्यास (ओएफडी) - नाक की जड़ से लेकर ललाट की हड्डी का सबसे प्रमुख बिंदु, पेट की परिधि (एसी) -

गर्भवती महिलाओं को हमेशा स्वस्थ गर्भावस्था के लिए सही भोजन चुनने में कठिनाई होती है। कुछ गर्भावस्था हार्मोन के कारण भोजन के बारे में सोचने में बहुत मुश्किल है।  कही बार भोजन को देखते उलटी जैसी महसूस होती है। लेकिन, कई महिलाएं भोजन की लालसा करती हैं और कभी-कभी, कुछ खाद्य पदार्थों के लिए पसंद करते हैं जो गर्भावस्था से पहले उनकी इच्छा सूची पर कभी नहीं होती थी। गर्भवती महिला को विभिन्न प्रकार के भोजन का चयन करना पड़ता है जो गर्भावस्था के दौरान उसके लिए और बच्चे के लिए अच्छा है। खाद्य पदार्थ जिनमें फोलेट, लोहा और कैल्शियम होते हैं, उन्हें बड़ी मात्रा में लिया जाना चाहिए। 

एंटीनाटल खनिज पोषक पूरक हैं जो गर्भवती महिलाओं के लिए उपयोगी होते हैं, वे गर्भधारण की योजना बना रहे हैं या स्तनपान। जो महिलाओं गर्भावस्त्या की योजना बना रहे हैं उन्हें पूर्व-गर्भाधान सलाह दी जानी चाहिए, जिसमें फोलिक एसिड और विटामिन डी की खुराक पर जानकारी शामिल है, जिसमें स्वस्थ और पौष्टिक भोजन शामिल हैं।

Ticket

Support info@medhealthtv.com

Contact Us Form

Contact Us
security image
Live Chat

Live ChatInstant Reply